ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
भीड़ हत्या संविधान और कानून के राज पर खुला हमला
September 8, 2019 • Purushottam Sharma

अखिल भारतीय किसान महासभा (AIKM)

राष्ट्रीय कार्यकारिणी

कार्यालय -  U-90, शकरपुर, दिल्ली, पिन 110092,   फोन - 1122521067  मो. 09410305930  email - kisanmhasabha.aikm@gmail.com                                                                                                                                                                                                                                                                              दिनांक – 08/09/2019

भीड़ हत्या संविधान और कानून के राज पर खुला हमला

किसान महासभा का डॉ. अंकित ॐ, चेयरमेन, यूनाइटेड रेजिडेंट एंड डॉक्टर्स एशोसियेशन इंडिया (URDAI) को पत्र.

31 अगस्त 2019 को असम के जोराहाट जिले के तियोक टी स्टेट में कार्यरत डॉ. देवेन दत्ता की भीड़ द्वारा की गई नृसंग हत्या की अखिल भारतीय किसान महासभा कड़ी निंदा करती है और इसके लिए जिम्मेदार सभी लोगों की गिरफ्तारी और उन्हें कड़ी सजा देने की मांग करती है.

अखिल भारतीय किसान महासभा सत्ताधारी पार्टी और सत्ता द्वारा भीड़ हत्या को संरक्षण देने की भी कड़ी भर्त्सना करती है. यह कृत्य संविधान और कानून के राज पर खुला हमला है. देश भर में हो रही ये भीड़ हत्याएं गंभीर चिंता का विषय हैं. अखलाक की हत्या से शुरू यह भीड़ हत्याओं का क्रम बुलंद शहर में इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या से होते हुए अब जोराहाट में डॉ. देवेन दत्ता की हत्या तक समाज के सभी हिस्सों को अपना शिकार बना बना रहा है. चिंता की बात है कि सभी जगह सत्ताधारी लोग इन हत्यारों के पक्ष और स्वागत में खड़े हैं.

किसान महासभा सरकार की कारपोरेट परस्त नीतियों के कारण लगभग ख़त्म होती सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं के चलते डॉक्टरों पर बढ़ते हमलों से चिंतित है. हम कार्यस्थल पर डॉक्टरों की समुचित सुरक्षा के लिए व्यवस्था करने और उसे कानूनी रूप देने की मांग करते हैं. हम आम जनता से अपील करते हैं कि खराब स्वास्थ्य सेवाओं के खिलाफ अपने गुस्से को डॉक्टरों पर निकालने के बजाए सरकार की कारपोरेट परस्त नीतियों के खिलाफ लड़ने के लिए लगाएं.

हम URDAI सहित डॉक्टर्स के अन्य संगठनों द्वारा इस सम्बन्ध में देश भर में चलाए जा रहे आन्दोलन और उनकी मांगों का पूरा और सक्रिय समर्थन करते हैं.

पुरुषोत्तम शर्मा

राष्ट्रीय सचिव, अखिल भारतीय किसान महासभा