ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
मोदी के किए की कीमत एक पूरी पीढ़ी को चुकानी पड़ेगी : आशीष नंदी
September 13, 2019 • Purushottam Sharma

मोदी के किए की कीमत एक पूरी पीढ़ी को चुकानी पड़ेगी : आशीष नंदी

एजाज अशरफ- आप एक राजनीतिक मनोविश्लेषक हैं. इस लिहाज से 2019 के चुनावों में बीजेपी की बड़ी जीत को आप कैसे समझते हैं?

आशीष नंदी- जिस तरह का काम इन लोगों ने 5 सालों में किया था उससे मुझे उम्मीद नहीं थी कि बीजेपी को इतनी बड़ी जीत हासिल होगी. मुझे लगता है कि इन लोगों ने आक्रामक शैली में प्रचार अभियान चलाया जिसके बूते यह जीत हासिल हुई. इन पांच सालों में इनके सामने केवल चुनाव था और सारे काम इसे ही ध्यान में रख कर किए गए. इस वजह से इनके पास कुछ और करने का वक्त ही नहीं था. बीजेपी के चुनाव अभियान का एक जरूरी भाग मोदी को भारत का तारणहार दिखाना था.

एजाज अशरफ- क्या हम इस जीत को बदलते भारत की छाया की तरह देख सकते हैं?

आशीष नंदी- मेरे लिए यह शर्म की बात है कि बीजेपी का चुनाव प्रचार और उसकी जीत हिंदुत्व विचारक विनायक दामोदर सावरकर से उधार लिए गए राज्य के सिद्धांत पर आधारित है. यह सिद्धांत राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की सोच पर लंबे समय से हावी रहा है.

एजाज अशरफ- सावरकर की राज्य की अवधारणा क्या थी?

आशीष नंदी- सावरकर की राज्य की कल्पना अत्यंत मर्दवादी थी. राष्ट्रवाद सहित सभी चीजें इस मर्दवादी राज्य के मातहत आती हैं. आप इसे राज्यवाद कह सकते हैं. इसका मतलब है कि आपके और मेरे जीवन में राज्य की भूमिका केंद्रीय होगी.

2019 के चुनाव परिणाम से हम जान सकते हैं कि भारत के एक बड़े हिस्से में मर्दवादी विचार हावी हो गया है जो राष्ट्रवाद और देशप्रेम तथा हिंदू राष्ट्रवाद और राष्ट्रवाद में अंतर नहीं कर पाता.

एजाज अशरफ- मर्दवादी राज्य के लक्षण या चरित्र क्या हैं?

आशीष नंदी- यह साहस का पौरुषिकरण, अधिकार का पौरुषिकरण और राष्ट्र की पहचान का पौरुषिकरण करना है. बीजेपी की बात करें तो इसने कई मर्तबा इससे किनारा भी किया है. उदाहरण के लिए जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे तो वह कहा करते थे कि वह सब को साथ लेकर चलते हैं.


2019 के चुनाव परिणाम से हम जान सकते हैं कि भारत के एक बड़े हिस्से में मर्दवादी विचार हावी हो गया है जो राष्ट्रवाद और देशप्रेम तथा हिंदू राष्ट्रवाद और राष्ट्रवाद में अंतर नहीं कर पाता.

एजाज अशरफ- आपने देशप्रेम और राष्ट्रवाद के अंतर पर बहुत लिखा है. क्या आप हमें इस अंतर के बारे में बता सकते हैं?

आशीष नंदी- देशप्रेम का मतलब प्रादेशिकता या क्षेत्रियता है जो मानव जाति का नैसर्गिक गुण है. इस तरह की प्रादेशिकता सभी जीवों में पाई जाती है. यहां तक कि कुत्ते और बिल्लियों में भी. दूसरे शब्दों में, देशप्रेम मानव जाति के लिए प्राकृतिक चीज है. लेकिन राज्यवाद का विचार देशप्रेम को पर्याप्त नहीं मानता.

एजाज अशरफ- क्या इसका संबंध नेशन-स्टेट (राज्य) के विकास-क्रम से जुड़ा है?

आशीष नंदी- यूरोप में राजतंत्र के खत्म हो जाने के बाद नेशन-स्टेट का उद्भव हुआ. राजा के पास दैवीय अधिकार थे. हालांकि संभ्रांत (एलीट) वर्ग खुद इस पर विश्वास नहीं करता था. लेकिन वह यह जरूर मानता था कि राजा एक प्रतीक है जो राज्य में रहने वाले विभिन्न समुदायों को साथ रखता है. संभ्रांत लोगों को डर था कि यदि राजतंत्र नहीं रहेगा तो यूरोप की सर्वसाधारण जनता राज्य के प्रति वफादार नहीं रहेगी. विभिन्न समुदायों को एक साथ रखने के लिए राष्ट्रवाद का प्रचार यूरोप के समाजों में किया गया.

हालांकि यूरोप का संभ्रांत स्वयं राष्ट्रवादी नहीं था. राज परिवारों की शादियां बाहर नहीं की जा सकती थीं इसलिए उन लोगों ने दूसरे राष्ट्रों के राज घरानों में ब्याह रचाया. जिन्होंने दूसरे राष्ट्रों के राजघरानों में शादियां कीं उन लोगों ने उन्हीं राष्ट्रों की राष्ट्रीयता ग्रहण कर ली.

आम जनता के लिए राज्य एक नया खुदा बन गया. इसका मतलब है कि राष्ट्र, राष्ट्रवाद और राज्य एक साथ घटित होने वाली परिघटनाएं हैं. ठीक इसी तरह का प्रचार आज भारत में हो रहा है.

बीजेपी लगातार देशद्रोह की बात करती है और उसका लक्ष्य राष्ट्रवाद और देशप्रेम के बीच के अंतर को धुंधला कर देना है.

एजाज अशरफ- भारत में राष्ट्रवादी प्रचार हावी क्यों हो रहा है?

आशीष नंदी- यह इसलिए हो रहा है क्योंकि इन लोगों ने देशप्रेम और राष्ट्रवाद के बीच की रेखा धुंधली कर दी है. हर भारतीय जन्म से ही देशप्रेमी होता है. इसके बरअक्स राष्ट्रवाद राज्य के प्रति वफादारी का भरा गया (निर्मित) भाव है. अधिकांश लोग राष्ट्रवाद और देशप्रेम के बीच अंतर नहीं कर पाते. भारत में ये दोनों शब्द एक ही अर्थ में प्रयोग किए जाते हैं. बीजेपी लगातार देशद्रोह की बात करती है और उसका लक्ष्य राष्ट्रवाद और देशप्रेम के बीच के अंतर को धुंधला कर देना है.

एजाज अशरफ- इसके पीछे बीजेपी की मंशा क्या है?

आशीष नंदी- इसके पीछे हर तरह के विपक्ष को राष्ट्रद्रोही ब्रांड करना है.

एजाज अशरफ- इस अंतर को मिटा देने के बीजेपी के प्रयास का लोगों में क्या असर हुआ है?

आशीष नंदी- भारतीय लोग अपनी स्वतंत्रता, भारतीयता के विचार और नेशन-स्टेट का सम्मान करते हैं. लेकिन इस बारे में उनका विचार बहुत अलग किस्म का है. उन्हें एकतरफा संदेश दिया जा रहा है. इसलिए लोग देश की बदलती राजनीति को समझने में नाकाम हैं. भारतीय लोगों के भीतर टीवी को लेकर एक तरह का विश्वास है जो 50 साल पहले अमेरिका के लोगों का था. आलोचनात्मक दृष्टि पैदा नहीं हुई है या यूं कहें कि उसे पैदा होने नहीं दिया गया.

एजाज अशरफ- क्या आपको लगता है कि पंजाब और कश्मीर में जिस तरह के आक्रामक आंदोलन चले, उसकी वजह से उत्पन्न बेचैनी के कारण भारतीय लोग बीजेपी के विचार को स्वीकार करते हैं?

आशीष नंदी- हिंसक आंदोलन से अधिक मुझे लगता है जनता हर तरह की हिंसा को लेकर बेचैन है.

एजाज अशरफ- लेकिन हिंसा ने बेचैन तो किया ही है.

आशीष नंदी- यह सही है. इस बेचैनी की वजह से लोगों को लगता है कि एक केंद्रीकृत राज्य, शांति व्यवस्था बहाल कर देगा. ब्रिटिश शासन के तहत भारतीयों की पहली पीढ़ी भी यही समझती थी. बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय, जो बंगाल के डिप्टी मजिस्ट्रेट थे, वह भी मानते थे कि मुगल शासन के अंतिम दिनों में जिस तरह की अराजकता थी उसका समाधान ब्रिटिश शासन है. यह वह समय था जब मराठा शक्तिशाली थे. उनकी लूटने वाली संस्कृति थी. यहां तक कि 1857 के विद्रोह के समय ब्रिटिश सत्ता की जीत के लिए कोलकाता में लोगों ने पूजा-अर्चना की थी.

सावरकर नास्तिक था. उसने अपनी पत्नी का रीति सम्मत अंतिम संस्कार भी नहीं किया. यहां तक कि उसका स्वयं का अंतिम संस्कार भी धार्मिक तरीके से नहीं हुआ.

एजाज अशरफ- क्या 2019 के चुनाव परिणाम को हिंसा और असुरक्षा की प्रतिक्रिया के रूप में समझना चाहिए?

आशीष नंदी- 2019 का चुनाव परिणाम आरएसएस द्वारा सावरकर की विचारधारा को फैलाए जाने का परिणाम है. वह यूरोप जैसा नेशन-स्टेट चाहता है. सावरकर ने स्पष्ट तौर पर कहा था कि हिंदुत्व का मतलब हिंदू धर्म नहीं है. लेकिन चुनावों के लिए इस अंतर को मिटा दिया गया. सावरकर नास्तिक था. उसने अपनी पत्नी का रीति सम्मत अंतिम संस्कार भी नहीं किया. यहां तक कि उसका स्वयं का अंतिम संस्कार धार्मिक तरीके से नहीं हुआ.

कुछ साल पहले सेंटर फॉर स्टडी ऑफ द स्टडी ऑफ डेवलपिंग सोसाइटीज ने एक सर्वे किया था जिसमें मैंने पहली बार सावरकर के विचार के सफल होने के लक्षण देखे थे. उस सर्वे में पाया गया था कि भारत के तमाम राज्यों में हिंदू धर्म के प्रति समर्पण का हिंदुत्व को मिल रहे समर्थन से संबंध नहीं है. इसका अपवाद सिर्फ गुजरात था.

अर्थशास्त्री प्रणब बर्धन ने इसे बहुत खूबसूरती से बयान किया है. उन्होंने कहा है कि प्रधानमंत्री के रूप में मोदी के पहले पांच सालों में गुजरात का विकास मॉडल गुजरात से बाहर नहीं फैल पाया और जल्द इसके फैलने का कोई लक्षण दिखाई नहीं देता. लेकिन नफरत का गुजराती मॉडल पिछले पांच सालों में पूरे भारत में फैल गया है.

एजाज अशरफ- क्या हम गुजरात के अनुभव से भारत को समझ सकते हैं?

आशीष नंदी- 1961 में मैं पहली बार मनोविश्लेषण क्लीनिक के लिए गुजरात गया. उस वक्त मैंने पाया कि गुजराती लोग मुसलमानों को अलग समुदाय नहीं समझते थे. वे लोग जब भी मुसलमानों की बात करते थे उनके दिमाग में उत्तर प्रदेश और बिहार से कपड़ा मिलों में काम करने के लिए आने वाले मुसलमान होते थे. जब मैं वहां के मुसलमानों की बात करता तो कोई गुजराती मुझे समझाने लगता कि नहीं वह मेमोन या बोहरा है. गुजराती मुसलमानों को उनके धर्म से नहीं बल्कि उनकी पंथ से पहचाना जाता था. लेकिन आज वहां मुस्लिमों की एक अलग पहचान है.

बहुत लंबे समय तक मुझे लग रहा था की जाति हिंदुत्व का जवाब है. लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

एजाज अशरफ- इसका मतलब है कि भारतीय मनोविज्ञान में फंडामेंटल या आधारभूत बदलाव आ चुका है.

आशीष नंदी- हां, बदलाव जरूर आया है लेकिन आप उसे आधारभूत बदलाव नहीं कह सकते. एक बदलाव यह आया है कि देशप्रेम और राष्ट्रवाद का अंतर मिट गया है. दूसरा बदलाव यह है कि उन्हें लगता है कि एक मजबूत केंद्रीकृत राज्य, हिंसा से ग्रस्त समाज में संतुलन बनाने के लिए जरूरी है. यह विचार अभी बढ़ रहा है. इस संदर्भ में एक और महत्वपूर्ण कारक यह है कि लोगों को विस्थापित होना पड़ा. यह विस्थापन विकास परियोजनाओं के कारण हो रहा है. क्या हमें इतने सारे बड़े बांधों की आवश्यकता थी?

मोदी के पहले पांच सालों में गुजरात का विकास मॉडल गुजरात से बाहर नहीं फैल पाया और जल्द इसके फैलने का कोई लक्षण दिखाई नहीं देता. लेकिन नफरत का गुजराती मॉडल पिछले पांच सालों में पूरे भारत में फैल गया है.

एजाज अशरफ- तो क्या एलीट वर्ग ने नीचे पैदा होने वाले दबाव को नियंत्रित करने के लिए एक मजबूत राज्य का विकल्प चुना है?

आशीष नंदी- आप कह सकते हैं कि कारोबारी एलीट ने विकास के अपने मॉडल के लिए मजबूत राज्य का विकल्प चुना है. मध्यमवर्ग के बड़े हिस्से ने इस विचार को ग्रहण कर लिया है. इस मॉडल में अंतर्निहत खतरे हैं. मेरी किताब “द इललेजिटिमेसी ऑफ नेशनलिज्म - रविंद्रनाथ टैगोर एंड पॉलिटिक्स ऑफ सेल्फ” का चीन में तीसरा अनुवाद हुआ है. इस बार पीपल्स पब्लिशिंग हाउस ने इसका अनुवाद किया है जिसका मतलब है कि यह राज्य प्रायोजित अनुवाद है. मेरा मानना है कि चीन का संभ्रांत वर्ग खुद के फैलाए राष्ट्रवाद से डरा हुआ है. वे लोग अब राष्ट्रवाद को पूंजी नहीं मानते. ऐसा इसलिए है कि वह स्वयं इसके शिकार हो गए हैं. चीन की जनता चाहती है कि चीन सैन्य शक्ति के दम पर दक्षिण चीन सागर को हासिल कर ले.

एक बार राष्ट्रवाद को ढ़ीला छोड़ दिया गया तो ऐसी स्थिति का पैदा हो जाना बहुत आसान है जो 1930 के यूरोप में थी. बड़े पैमाने पर हत्याएं होने से पहले न्यायपालिका और शिक्षा व्यवस्था को व्यवस्थित और कमजोर कर दिया गया था. इसके बाद किताब जलाए जाने जैसी परिघटना सामने आईं.

एजाज अशरफ- आज जो भारत में हालात हैं क्या आप उससे चिंतित हैं?

आशीष नंदी- जी बिल्कुल. भारत दुनिया की लिंचिंग राजधानी बन गया है. 1950 तक यह दर्जा अमेरिका को प्राप्त था.

एजाज अशरफ- क्या आप इसलिए भी चिंतित हैं क्योंकि आपको लगता है कि यह सरकार की मिलीभगत से हो रहा है?

आशीष नंदी- हां, ऐसा ही पाकिस्तान में भी है.

एजाज अशरफ- क्या हम पाकिस्तान जैसा बन रहे हैं?

आशीष नंदी- हम पाकिस्तान की तरह देखने लगे हैं. हमारी सेना उसकी सेना की तरह ही राज्य की भाषा बोल रही है और मुझे शक है कि निचली न्यायपालिका का अधिकांश हिस्सा यही कर रहा है.

आप को समझना चाहिए कि भारत में यह काम इसलिए हो पाया है क्योंकि बीजेपी-आरएसएस ने संस्थाओं में अपने लोग घुसा दिए हैं. आप किसी को सरकारी नौकरी देते हैं तो वह आपका वफादार बन जाता है. अगर बीजेपी अगला चुनाव या 2029 का चुनाव हार भी जाती है तो ऐसे लोग वहां (संस्थाओं में) बने रहेंगे.

मोदी सरकार ने जो किया है उसकी कीमत भारत की एक पीढ़ी को चुकानी पड़ेगी. हम यूरोप के नेशन-स्टेट से जुड़ी खामियों के साथ वैसा ही नेशन-स्टेट बनते जाएंगे. हमारा देश विविधता वाला समाज है जिससे आरएसएस-बीजेपी के लोगों को डर लगता है.

एजाज अशरफ- विविधता से संघ इतना भयभीत क्यों रहता है?

आशीष नंदी- उनके डर से ही हमें पता चलता है कि न वह हिंदू हैं और न भारतीय. इसने नेशन-स्टेट का अपना मॉडल यूरोप से जस का तस चुराया है. यही सावरकर चाहता था.

एजाज अशरफ- 2019 में बीजेपी की जीत का सेहरा मोदी को दिया गया. उनके व्यक्तित्व की वह खास बात क्या है जो लोगों को आकर्षित करती है? क्या आपको लगता है कि उनकी आक्रामकता, बदलते भारतीय मनोविज्ञान को आकर्षित करती है?

आशीष नंदी- यह सही है. लोगों को उनके गरीब परिवार से आने और सफल होने की कहानी आकर्षित करती है. लोगों को लगता है कि प्रधानमंत्री ने कोई गलती की भी है तो यदि वह उनको झेलते रहेंगे तो लंबे समय में उन्हें लाभ मिलेगा. इस भाष्य को गढ़ने में मीडिया की बड़ी भूमिका है और इस चुनाव को राष्ट्रपति चुनाव जैसा बना दिया गया.

एजाज अशरफ- क्या प्रेम की भाषा लोग पसंद नहीं करते?

आशीष नंदी- यह मत भूलिए कि हमारे सामने कोई ऐसा बड़ा व्यक्तित्व नहीं है जो प्रेम की भाषा को विश्वसनीय बना सके. जयप्रकाश नारायण ने इसका प्रयास किया था और वे सफल रहे थे. जो व्यक्ति प्रेम के प्रति लोगों में विश्वास जगाना चाहता है उसके जीवन में बलिदान (खो देने) का गुण होना.

एजाज अशरफ- मीडिया ने मोदी की जो छवि पेश की उसके बारे में आपका क्या कहना है?

आशीष नंदी- नेताओं की छवि बनाने में मीडिया की बड़ी भूमिका न सिर्फ भारत में बल्कि अन्य देशों में भी है. इसलिए एक ही वक्त में हमारे सामने भारत में मोदी, तुर्की में रजब तैयब इरदुगान, फिलीपींस में रोड्रिगो दुतेर्ते और अमेरिका में डोनाल्ड ट्रंप हैं.

संघ के डर से ही हमें पता चलता है कि न वह हिंदू हैं और न भारतीय. इसने नेशन-स्टेट का अपना मॉडल यूरोप से जस का तस चुराया है. यही सावरकर चाहता था.

एजाज अशरफ- क्या आपको लगता है कि यह लोग मीडिया का इस्तेमाल लोगों के दिमाग पर कब्जा करने के लिए करते हैं?

आशीष नंदी- हां. मैं भारतीयता के विचार पर एक किताब का संपादन कर रहा हूं. मुझे पता है कि यदि इस किताब का अनुवाद भारत की सभी भाषाओं में हो जाए तो इसे बहुत पढ़ा नहीं जाएगा. भारतीयता के विचार को जनता की चेतना में समाने में बहुत लंबा समय लगेगा क्योंकि जनता को गलत किताबों से अन्य तरह का विचार दिया जा रहा है.

एजाज अशरफ- क्या भारतीयता की अवधारणा बदल गई है?

आशीष नंदी- मध्यम वर्ग को देखिए, जो आमतौर पर नेशन-स्टेट के विचार को स्वर देने का काम करता है. आप पाएंगे कि भारतीयता का विचार बदल गया है. राजनीति को मर्दवादी बना देना, राज्यवादी बना देना और निरंतर प्रगति के विचार को स्वीकार्य बनाने में मध्यम वर्ग जिम्मेदार है. भारतीय लोग यह सोचते हैं कि प्रगति न केवल स्थाई है बल्कि यह एक ही दिशा में चलने वाली रेखा की तरह है. आज ऐसी प्रगति मुमकिन नहीं है. हम ऐसी अवस्था में पहुंच गए हैं जहां अंततः हम अपनी दुनिया को नष्ट कर देंगे.

एजाज अशरफ- राष्ट्रीय पहचान क्या है? ऐसा माना जाता था कि भारतीय पहचान जाति, धर्म, धार्मिक और भाषाई पहचान के जोड़ से अधिक है. अब देखा जा सकता है कि भारतीय पहचान हिंदू होना हो गई है.

आशीष नंदी- इस तरह की चेतना, जिस की बात आप कर रहे हैं. वह हमेशा से थी. लेकिन यह दबी हुई थी, अवचेतन में थी. बहुसंख्यक को पहले लगता था कि वह बहुसंख्यक है, लेकिन अब उसे लगता है कि वह पीड़ित बहुसंख्यक है. मेरे मित्र राजनीतिक विज्ञानी डीएल सेठ को एक बार आरएसएस ने अपने सदस्यों को संबोधित करने के लिए बुलाया था. सेठ भारत के चंद शानदार राजनीतिक विचारकों में से हैं. सेठ ने उनसे कहा कि पहले आप मेजॉरिटी की तरह बात करना सीख लें तब मैं आकर अपनी बात रखूंगा. पीड़ित होने की भावना बहुसंख्यक के अंदर पैठ कर गई है. इससे पहले बहुसंख्यक के भीतर आत्मविश्वास था.

इस भावना के पीछे मध्यमवर्ग है. इसकी संख्या और प्रभाव बढ़ा है लेकिन इसका आत्मविश्वास कमजोर हो गया है. अब यह सिर्फ अपने बारे में नहीं सोचता. यह मध्यम वर्ग का काम है कि समाज को विचार दे. मध्यमवर्ग निर्णय करता है कि कौन से विचार गलत हैं. विश्वविद्यालय और स्कूलों की यहां भूमिका है लेकिन अब मध्यमवर्ग का विचार गड्डमड्ड है जो उसे मीडिया से मिल रहा है.

एजाज अशरफ- क्या मिडिल क्लास के जीवन में अनिश्चितता के भाव के बढ़ने की वजह से उसकी चेतना पर असर पड़ रहा है?

आशीष नंदी- एकदम यही बात है. मध्यमवर्ग आसपास घट रही चीजों की कोई समझ नहीं रखता. उदाहरण के लिए पंजाब को लीजिए. वहां क्या हुआ? पंजाब देश की ड्रग राजधानी अनायास ही नहीं बन गया. पंजाब के बाहर लोग आज भी सोचते हैं कि वहां हरित क्रांति चल रही है. लेकिन वास्तव में पंजाब के किसान अपनी जमीन ऊंचे दामों में बेचकर अपने बच्चों को ऑस्ट्रेलिया जैसे देशों में पढ़ने के लिए भेज रहे हैं.

एजाज अशरफ- उनके बर्ताव में बदलाव क्या दर्शाता है?

आशीष नंदी- आधुनिक हो रहे समाजों में किसान बर्बाद हो रहे हैं. ऐसे समाज में एक अलिखित नियम है कि कृषि पर निर्भर लोग कम होते जाएंगे. पहले यह विचार था कि भारत को आधुनिक बनना चाहिए लेकिन इससे बेदखली नहीं होनी चाहिए और यदि आधुनिकरण की प्रक्रिया में कृषि पर निर्भर लोग कम होते हैं तो यह ठीक है.

1995 से आज तक तीन लाख किसानों ने आत्महत्या की है. शायद जापान को एक अपवाद माना जा सकता है लेकिन अन्य किसी सभ्य समाज में यह असहनीय बात होती. धनी देशों में जापान में सबसे अधिक आत्महत्या दर है. हर जगह एक तरह का अलगाव है.

एजाज अशरफ- बीजेपी ने भोपाल से साध्वी प्रज्ञा को लोकसभा का उम्मीदवार बनाया था इस बारे में आप क्या सोचते हैं?

आशीष नंदी- यह बीजेपी के आत्मविश्वास का प्रतीक है कि उसे अब इस बात का डर नहीं है कि वह क्या बोलती है. उसने मतदाताओं को विश्वास में ले लिया है.

एजाज अशरफ- बीजेपी की जीत से यह संदेश जाता है कि उसका दावा सही है.

आशीष नंदी- जी हां इस पर कोई संदेह नहीं. बीजेपी को अब एकमात्र डर न्यायपालिका से है.

एजाज अशरफ- कांग्रेस पार्टी के नेता दिग्विजय सिंह ने चुनाव में हार जाने के बाद कहा था की मोहनदास गांधी के हत्यारों की विचारधारा जीत गई. क्या आपको लगता है कि गांधी और जवाहरलाल नेहरू हार गए?

आशीष नंदी- मैं मानता हूं कि गांधी की हार नहीं हुई है. लेकिन मैं नेहरू के बारे में पूरे विश्वास के साथ ऐसा नहीं कह सकता क्योंकि उन्होंने गांधी के विचारों को हारी हुई सभ्यता की रूमानी सपने कहकर खारिज कर दिया था. (गांधी की स्वायत्त ग्रामीण अर्थव्यवस्था का विचार.) प्रगतिवाद वाला नेहरू का विचार आज पूरी भारतीय जनता मानती है. नेहरू का आर्थिक कार्यक्रम जिसमें बराबरी की बात नहीं थी वह बीजेपी के कार्यक्रम से बहुत अलग नहीं है.

एजाज अशरफ- लेकिन आरएसएस से अलग नेहरू भारत की विविधता वाली संस्कृति के प्रशंसक थे.

आशीष नंदी- मुझे समझ में नहीं आता कि वह किस हद तक विविधता के प्रशंसक थे. मुझे लगता है कि वह विविधता को सजावट के गहने की तरह देखते थे. गांधी अलग थे. गांधी को मारा नहीं जा सकता. वह जिंदा हैं जबकि उनकी हत्या कर दी गई थी. वे खुद को जानते थे. 20 जनवरी 1948 को गांधी की हत्या के षड्यंत्रकारियों में से एक मदनलाल पाहवा ने उन पर बम फेंका था. उसके बाद भी उन्होंने अतिरिक्त सुरक्षा लेने से इनकार कर दिया. गांधी को हाशिए पर कर दिया गया है लेकिन वह हमारे समाज के छिपे हुए मानक बने रहेंगे. दूसरी ओर वे लोग जो गांधी पर विश्वास करते हैं आक्रामक तरीके से अधिक गांधीवादी हो गए हैं. गांधीवादी मूल्यों को न चाहते हुए भी आरएसएस ग्रहण करता है. यहां तक कि पहावा भी अपने बाद के जीवन में गांधी से प्रभावित मानवीय मूल्य को मानने लगा था.

साभार - सोनू मेहता/हिंदुस्तान टाइम्स