ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
सवाल पूछने की आज़ादी
August 30, 2019 • Purushottam Sharma
तिरछी नज़र :
सवाल पूछने की आज़ादी
डॉ. द्रोण कुमार शर्मा
25 Aug 2019
 
अब तानाशाही तो है नहीं कि हम सरकार से प्रश्न भी न पूछ सकें। अब अगर बैकडोर से चुपचाप तानाशाही आ भी चुकी है तो बता तो दो ज़रा। हम सरकार से प्रश्न नहीं पूछेंगे।

यह जो आज़ादी हैसरकार से प्रश्न पूछने की भीहमारे स्वतंत्रता सैनानियों नेउस समय के नेताओं ने बडी़ मुश्किल सेकुर्बानियों से हासिल की थी। पर बीच के तीन साल में (इमरजेंसी के) और अब पिछले पांच साल से यह आज़ादी भी गुम होती जा रही है।

यह जो प्रश्न पूछने की आज़ादी है मुझे डर है कि यह आज़ादी अब स्कूलों-कालेजों में भी बची है या नहीं। आप वहां भी प्रश्न पूछ सकते हैं या नहीं। पहले तो अध्यापक छात्रों से और छात्र अध्यापक से भी प्रश्न पूछ सकते थे। पर अब कहीं वहां भी तो ऐसा तो नहीं हो गया है कि अध्यापक किसी छात्र से कठिन सा प्रश्न पूछें और छात्र जवाब दे दे "भारत माता की जय"तो अध्यापक अब क्या करे। अध्यापक का सिर नीचा और छात्र का ऊपर। अध्यापक न तो छात्र को बैंच पर खडा होने के लिए कह सकता है और न कक्षा से बाहर निकल जाने के लिए। अध्यापक यदि छात्र को सज़ा दे तो अध्यापक देशद्रोही। हमारे ज़माने में तो अध्यापक पिटाई भी खूब करते थे पर अब पिटाई स्कूलों में बंद हो कर सड़कों पर आ गयी है। सड़क पर आप किसी को भी भारत माता की जयजय श्री रामगौरक्षा आदि जैसे किसी भी बहाने से पीट सकते हैं।

पर शिक्षा संस्थानों में तो प्रश्न पूछने की आज़ादी तो अंग्रेजों के शासन में भी थी। हमारे नेताओं ने जो आज़ादी प्राप्त की थी उसमें यह खासियत थी कि आप शासक से भी प्रश्न पूछ सकते हैं। आप सरकार से पूछ सकते हैं कि यह पेट्रोल-डीज़ल क्यों महंगा हो गया है। आप सरकार से पूछ सकते हैं कि हमें नौकरी क्यों नहीं मिल रही है। आप सरकार से पूछ सकते हैं कि यह ऑटो सेक्टर मेंऔर बाक़ी जगह भी मंदी क्यों है। हैरत हैसिर्फ़ पांच रुपये के बिस्किट की बिक्री भी घट गई है। आप यह भी पूछ सकते हैं कि किसानों की आत्महत्याओं में कमी क्यों नहीं हो रही है। 

पर प्रश्न पूछने के अधिकार के साथ ही आ गया चुप रहने का अधिकार। इस अधिकार के लिए कोई आंदोलन नहीं किया गया हैयह तो स्वतः प्राप्त होने वाला अधिकार है। पिछले पांच साल में पूछने की आज़ादी को समाप्त करने के साथ साथ सरकार ने चुप रहने का अधिकार भी प्राप्त कर लिया है। आप कुछ भी पूछियेसरकार चुप ही रहती है। जनता के द्वारा पूछे जाने वाले प्रश्नों परमौन रहने वाले प्रधानमंत्री के मुकाबले ज्यादा बोलने वाले प्रधानमंत्री कहीं ज्यादा चुप रहते हैं।

अब सरकार चुप रहती है तो जनता ने ही जवाब देने का काम सम्हाल लिया हैभक्त जनता ने। मतलब सवाल भी जनता का और जवाब भी जनता का। पर आजकल सवाल करनेवाली जनता कम है और जवाब देने वाली ज्यादा। आप प्रश्न पूछें कि पेट्रोल के दाम क्यों बढ रहे हैंसरकार चुप है पर भक्त जनता को जवाब पता हैक्योंकि अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में तेल की कीमतें बेकाबू हैं इसीलिए पेट्रोल के दाम बढ़ रहे हैं। आपका प्रश्न है कि नौकरियां क्यों नहीं हैसरकार के पास उत्तर नहीं है पर भक्तों के पास हैवहां सियाचिन में जवान मर रहे हैं और इसे नौकरी की पड़ी है। आप पूछो कि किसान आत्महत्या क्यों कर रहे हैं तो सरकार भले ही बगलें झांकेभक्त जनता के पास जवाब हैकिसान खेती के कारण नहींप्रेम में असफलता के कारण आत्महत्या कर रहे हैं। ऑटोमोबाइल क्षेत्र में आई मंदी का जवाब सरकार द्वारा वायु प्रदूषण को नियंत्रित करना है। मात्र पांच रुपये के बिस्किट के पैकेट की बिक्री में कमीमंदी के कारण नहींलोगों में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता के कारण पैक्ड फूड का बहिष्कार करना है। आम लोगों के पास पैसे की कमी का प्रश्न उठाओ तो जनता स्वयं ही सवाल कर देती है कि अगर पैसे की कमी है तो फिल्में क्यों हिट हो रही हैंरेस्तरां में इतनी भीड़ क्यों हैमॉल क्यों भरे भरे नज़र आते हैं।

सबसे अधिक प्रश्न स्कूलों-कालेजों में परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। मैं तो इस बात से परेशान हूँ कि यदि परीक्षा में कोई छात्र प्रश्नों के उत्तर में उत्तर पुस्तिका में मात्र भारत माता की जयजय श्री रामवंदेमातरमगाय मातातीन तलाकधारा 370, आर्टिकल 35 आदि आदि लिख आये तो परीक्षक उसे पास करेगा या फेल करके देशद्रोही बनेगा। 

(लेखक पेशे से चिकित्सक हैं।)