ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
25 के सफल बन्द के बाद खाद्य सुरक्षा पर 28 सितम्बर को विरोध दिवस
September 26, 2020 • Delhi • विज्ञप्ति

प्रेस विज्ञप्ति 26/09/2020

28 सितम्बर को शहीद भगतसिंह के जन्म दिन पर देश की खाद्य सुरक्षा पर तीन बिलों के जरिये हमले के खिलाफ किसान देश भर में विरोध कार्यक्रम करेंगे!

25 सितंबर को किसानों के राष्ट्रव्यापी बंद व प्रतिरोध दिवस पर एक करोड़ लोगों की प्रत्यक्ष भागीदारी हुई।

अखिल भारतीय किसान महासभा ने देश के संघर्षरत किसानों, किसान संगठनों को तीन कृषि संबंधी बिलों के खिलाफ 25 सितम्बर के भारत बंद व प्रतिरोध दिवस की अभूतपूर्व सफलता पर क्रांतिकारी अभिवादन किया है। साथ ही इस आंदोलन को समर्थन देने वाले ट्रेड यूनियनों, छात्र, युवा, महिला, व्यापारी संगठनों, बुद्धिजीवियों, लेखकों, कलाकारों, गायकों, फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़े लोगों और वाम पार्टियों सहित विपक्ष की पार्टियों का भी आभार व्यक्त किया है।

राष्ट्रीय मीडिया के बड़े हिस्से ने इतने व्यापक आंदोलन की अनदेखी की। फिर भी राष्ट्रीय मीडिया के उस छोटे हिस्से और सोशल मीडिया के उन तमाम साहसी मित्रों को भी धन्यवाद जो तमाम जोखिमों के बाद भी लोकतंत्र के चौथे खम्बे की ज्योति जलाए हैं।

देश के किसानों द्वारा कृषि प्रधान भारत की खेती, किसानी और खाद्य सुरक्षा को कारपोरेट और बहुराष्ट्रीय निगमों का गुलाम बनाने, जीवन के लिए आवश्यक वस्तुओं को कारपोरेट के मुनाफे के लिए उपभोक्ता माल में तब्दील करने के लिए लाए गए इन बिलों का इतना व्यापक विरोध स्वाभाविक है। देश की आबादी का 60 प्रतिशत किसान व ग्रामीण गरीब अपनी खेती का उत्पादन, भंडारण और बाजार को कारपोरेट व बहुराष्ट्रीय कम्पनियों के हाथ किसी भी कीमत पर नहीं जाने देंगे।

यही वह बात है जिसने आज देश के सभी संघर्षरत किसान संगठन को इन तीनों बिलों के खिलाफ संयुक्त आंदोलन में उतारा है। इस लिए मोदी सरकार द्वारा कोरोना संकट की आड़ में संसदीय नियमों की खुली अवहेलना कर जबरन पास कराए गए इन तीन बिलों का विरोध आगे भी जारी रहेगा।

25 सितम्बर के राष्ट्रव्यापी बंद व प्रतिरोध दिवस पर 6 सौ से ज्यादा जिलों के लगभग एक लाख से ज्यादा स्थानों पर किसान और उनके समर्थन में समाज के अन्य हिस्से सड़कों पर उतरे। 25 से लेकर 5 हजार तक की गोलबंदी के इन कार्यक्रमों में दो करोड़ से ज्यादा लोगों की भागीदारी हुई। यह कोविड दौर में दुनिया भर में और आजादी के बाद भारत के जन आंदोलनों के इतिहास में सबसे बड़ी जन गोलबंदी है।

अब 28 सितम्बर को शहीद भगतसिंह के जन्म दिन पर देश की खाद्य सुरक्षा पर हमले के खिलाफ किसान देश भर में विरोध कार्यक्रम करेंगे एआइके- एससीसी ने इसका आह्वान पहले ही किया है। किसान विरोधी भाजपा और संसद में इन बिलों को समर्थन देने वाले उसके सहयोगियों का देश के किसानों ने गांव-गांव में सामाजिक बहिष्कार कार्यक्रम पंजाब से शुरू कर दिया है। पंजाब के गांवों और शहरों में भाजपा के बहिस्कार के बैनर टांगे जा रहे हैं।

वहां ग्राम पंचायों की खुली बैठकों में भाजपा व उसके सहयोगियों के बहिष्कार के प्रस्ताव पास कर गांव के बाहर इसके बैनर टांगे जा रहे हैं। कई व्यापार मंडलों या आढ़ती संगठनों ने भी ऐसे बैनर टांगे हैं। पंजाब में किसानों का 24 सितम्बर से शुरू रेल रोको आंदोलन अब भी चल रहा है। अगर केंद्र सरकार इन बिलों को वापस नहीं लेती है, तो देश के किसान संगठनों द्वारा इस अभियान को भी देश भर में फैलाया जाएगा।

पुरुषोत्तम शर्मा

राष्ट्रीय सचिव

अखिल भारतीय किसान महासभा