ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
9 अगस्त को राष्ट्रव्यापी विरोध में उतरेंगे देश के किसान संगठन
July 18, 2020 • Delhi • विज्ञप्ति

*अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की अपील:*

*इस साल अगस्त क्रांति दिवस को किसान मुक्ति दिवस के रूप में मनाएं*

9 अगस्त 1942 का उद्घोष: "अंग्रेजों भारत छोड़ो"

9 अगस्त 2020 का उद्घोष: "कॉरपोरेट किसानी छोड़ो"

9 अगस्त को केंद्र सरकार से इन 9 मांगों को लेकर देशव्यापी आंदोलन करेंगे किसान

1. *कर्जा मुक्ति:* शुरुआत में सरकार इस साल कोरोना दौर के लिए सभी किसानों का रबी फसल का कर्ज माफ करे और खरीफ फसल के लिए केसीसी जारी करे। समूहों के कर्ज का ब्याज माफ कर उनकी वसूली पर रोक लगाए। उसके बाद सरकार हर किसान को संपूर्ण कर्जा मुक्ति का कानून पास करे।

2. *पूरा दाम:* प्रत्येक फसल, सब्जी, फल और दूध का एमएसपी कम से कम सी-2 लागत से 50 फीसदी अधिक घोषित हो। इस दाम पर फसल खरीद की गारंटी दे सरकार। एमएसपी से कम रेट पर खरीद करना फौजदारी जुर्म घोषित हो।

3. *किसान विरोधी अध्यादेशों रद्द हों:* दिनांक 03.06.2020 को जारी तीनो अध्यादेशों-

क) कृषि उपज, वाणिज्य एवं व्यापार (संवर्धन और सुविधा) अध्यादेश 2020

ख) मूल्य आश्वासन पर (बंदोबस्ती और सुरक्षा) समझौता कृषि सेवा अध्यादेश 2020

ग) आवश्यक वस्तु अधिनियम (संशोधन)2020 को सरकार वापस ले। ये किसान विरोधी हैं। इनसे फसल के दाम घट जाएंगे। खेती की लागत महंगी और बीज सुरक्षा समाप्त हो जाएगी। खाद्य सुरक्षा तथा सरकारी हस्तक्षेप की सम्भावना समाप्त हो जाएगी। यह पूरी तरह कॉरपोरेट सेक्टर को बढ़ावा देते हैं, उनके द्वारा खाद्यन्न आपूर्ति पर नियंत्रण, जमाखोरी व कालाबाजारी को बढ़ावा मिलेगा। किसानों को "वन नेशन वन मार्केट" नहीं "वन नेशन वन एमएसपी" चाहिए।

4. *डीजल का रेट:* आधा करो। अंतरराष्ट्रीय रेट 2014 से 60 फीसदी घटा है लेकिन भारत सरकार का टैैक्स दो गुना बढ़ा है।

5. *बिजली बिल 2020 वापस लो:* कोरोना दौर का किसानों, छोटे दुकानदारों, छोटे व सूक्ष्म उद्यमियों तथा आम जन का बिजनी का बिल माफ करो। डीबीटी योजना ना मंजूर।

6. *इस साल किसान को हुए नुकसान की भरपाई हो:* फरवरी-मार्च 2020 में ओलावृष्टि, बिन मौसम बरसात और लॉक डाउन के कारण किसानों की सब्जी, फल, फसल एवं दूध के नुकसान का मुवावजा दे सरकार ।

7. *इस साल मनरेगा के तहत काम की गारंटी को बढाकर:* 200 दिन किया जाय और न्यूनतम मजदूरी की दर से भुगतान किया जाय ताकि खेतिहर मजदूर, छोटे किसान, मजदूरी छोड़ गाँव वापिस आये प्रवासी किसान को इस संकट में काम मिल सके।

8. *कोरोना संकट के पूरे दौर में सरकार हर व्यक्ति पूरा राशन उपलब्ध कराये:*, ताकि किसान की मेहनत से बने देश के खाद्यान्न भंडार का प्रयोग हो सके। राशन में हर महीने प्रति यूनिट, 15 किलो अनाज, 1 किलो तेल, 1 किलो दाल, 1 किलो चीनी दे सरकार।

9. *देश में किसानो, आदिवासियों की खेती की जमीन कम्पनियों को देने पर रोक लगाई जाए:* और जंगल की जमीन कैम्पा कानून के नाम पर जबरन प्लान्टेशन लगाना बंद किया जाए।