ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
हरियाणा में एआईकेएससीसी का धरना
November 28, 2019 • Delhi • आंदोलन

हरियाणा में एआईकेएससीसी का धरना

27 नवम्बर 2019 को ,फतेहाबाद लघु सचिवालय के सामने जम्हूरी किसान सभा, अखिल भारतीय किसान महासभा, भारतीय किसान यूनियन समेत 21संगठनों द्वारा किसानों की समस्याओं को लेकर एक धरना हुआ।

जिसमें पराली जलाने पर किसानों पर मुकदमें बनाना, जुर्माना लगाना, सरपंच व नम्बरदारों को सस्पैंड करना जैसी मांगों को लेकर फत्तेहाबाद के सचिवालय पर अनिश्चितकालीन धरने का आयोजन किया गया।वक्ताओं ने कहा कि सरकार किसानों के साथ घोर अन्याय कर रही है। किसानों की मांग है कि धान पर 200 रु प्रति क्विंटल बोनस दिया जाए! पराली के नाम पर जो मुकदमे किसानों पर लगाए गए हैं, उनको तुरन्त वापिस लिया जाए! जिन किसानों पर जुर्माना लगाया हुआ है उसको वापिस लिया जाए।
मौके पर कपास का रेट 5450 रु है लेकिन व्यापारियों द्वारा 4800 रु तक लूटी जा रही है जिससे किसान को सीधा 650 रु तक घाटा है, जो किसान पर कर्जा बढ रहा है जिससे प्रतिदिन 32 किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हैं!
सरकार C C I  एजेंसी को मण्डियों में खरीद करने के लिए भेजे व खरीद करे! बेमौसमी बरसात व ओला के कारण गेेहूँ की बीजाई करनी पड़ेगी जिस पर कम से कम 5000 रु प्रति ऐकड़ खर्चा होगा! दूसरे लेट बिजाई की वजह से पैदावार भी कम होगी इसकी भरपाई कम से कम 10000 रु सरकार करे या बिमा कम्पनी भरपाई करे !आज के इस धरने में मुख्यत रूप से जमुहरी किसान सभा के नेता मनदीप नथवान, सतनाम सिंह, मालकियत सिंह, लाडी, सुखदेव सिंह, ओमप्रकाश सिंह, अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष. प्रेम सिंह गहलावत, फतेहाबाद जिला प्रभारी सुखविन्दर सिंह,
 भारतीय किसान यूनियन हरियाणा के प्रधान चौधरी जोगिन्द्र घासी राम नैन, अजय सिंह झांझड़ा वकील, जिया लाल ढुन्डवा जिला प्रधान मच्छन्दर सिंह नैन कन्हडी सुरेश कुमार ढाणी गोपाल सुबे सिंह आर्य भी पहुंचे व किसानों की मांगों को लेकर समर्थन दिया और साथ  रह कर संघर्ष करने का आश्वासन दिया! ध्यान रहे आज के इस धरने के आयोजन जमुहरी किसान सभा ने किया था.