ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
खराब सार्वजनिक नलकूप बदलने के लिए किसान महासभा का धरना
July 18, 2020 • Delhi • रिपोर्ट

खराब सार्वजनिक नलकूप न बदलने के खिलाफ किसान महासभा का धरना

रामचन्द्र कुलहरि

खेतङी• राजस्थान के बुहाना उपखंड के ग्राम आर्यनगर में मार्च के प्रथम सप्ताह में सार्वजनिक नलकूप का बोरिंग सूख गया था। गांव के किसानों ने जिले के अधिकारियों से बार-बार निवेदन किया, बावजूद आजतक नया बोरिंग नहीं लगा।

इसके विरोध में जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के अधिशाषी अभियंता खेतङी कार्यालय के सामने अखिल भारतीय किसान महासभा ने धरना धरना देकर विरोध जताया। कार्यक्रम लॉक डाउन के नियमों की पालना करते हुए मुंह पर मास्क लगाकर व उचित दूरी बनाते हुए हुआ।

पेयजल की समस्या के समाधान की मांग को लेकर अखिल भारतीय किसान महासभा की तरफ से गत दस जुलाई को जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग के सहायक अभियंता बुहाना को ज्ञापन देकर समस्या समाधान की मांग की गई थी। पानी न मिलने पर सोलह जुलाई से धरने की चेतावनी दी गई थी ।

सहायक अभियंता बुहाना के दो कार्यालयों सुरजगढ व बुहाना का कार्यभार होने की वजह से धरना सहायक अभियंता बुहाना की बजाय अधिशाषी अभियंता खेतङी कार्यालय के सामने दिया गया । इस अवसर पर अधिशाषी अभियंता महेन्द्र सिंह फोगाट को ज्ञापन देकर इस बात पर गहरा आक्रोश जाहिर किया गया।

पहले भी मार्च के प्रथम सप्ताह में सार्वजनिक नलकूप का बोरिंग सूख जाने के बाद सहायक अभियंता बुहाना को 19 मार्च को आर्यनगर की भंयकर पेयजल समस्या के हल को लेकर ज्ञापन दिया गया था । तीन अप्रैल को संपूर्ण लॉक डाउन के दौरान अतिरिक्त जिला कलेक्टर को व्हाट्सप नंबर पर ज्ञापन भेजकर पेयजल समस्या के हल की मांग की थी ।

बारह जुलाई को जिला कलेक्टर को भी पेयजल समस्या के हल के लिए नया बोरिंग करवाने हेतु ज्ञापन दिया था । ज्ञापन में चेतावनी दी गई कि पेयजल समस्या का समाधान नहीं होने पर अनिश्चितकाल तक आंदोलन के लिए बाध्य होना पङेगा । अधिशाषी अभियंता महेन्द्र सिंह फोगाट ने जल्द ही समस्या के समाधान का आश्वासन देने पर अनिश्चितकालीन धरना स्थगित कर दिया ।

धरने में अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव कामरेड रामचन्द्र कुलहरि के अलावा भगवान सिंह कोडाण, कामरेड सूरत सिंह, कामरेड बलवान, हजारी लाल मेघवाल, ब्रह्मानंद कुलहरि, दलीप सिंह कोडाण, रुघवीर मेघवाल, राजेन्द्र मेघवाल शामिल थे ।