ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
नकली बीज बेचने वाली कम्पनी के खिलाफ एफआईआर नहीं लिख रही पुलिस
July 10, 2020 • Delhi • विज्ञप्ति

*बायोब्लिस्स कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं करना सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों की अवमानना*

भागवत परिहार

*मुलताई विधायक ,बैतूल सांसद ,कृषि मंत्री एवं मुख्यमंत्री बतलाए कि वे किसानों के विरोध में कंपनियों के साथ क्यों खड़े हैं?*

किसान संघर्ष समिति के कार्यकारी अध्यक्ष पूर्व विधायक डॉ सुनीलम ने बायोब्लिस्स कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं किए जाने पर आपत्ति करते हुए कहा है कि एफआईआर नहीं किया जाना सर्वोच्च न्यायालय की अवमानना है । डॉ सुनीलम ने कहा कि उच्चतम न्यायालय की संवैधानिक पीठ ने ललिता कुमारी की.याचिका क्रमांक 68 / 2008 में स्पष्ट कहा है कि सीआरपीएफ की धारा 154 के तहत एफआईआर दर्ज किया जाना मैंडेटरी है तथा एफआईआर नहीं दर्ज करने वाले अधिकारी पर कार्यवाही की जानी चाहिए ।

डॉ सुनीलम ने कहा कि आज देवरी के अशोक फरकाड़े ने उन्हें मुलताई थाने से फोन करके बताया कि मोहन गुप्ता नाम का एएसआई एफआईआर दर्ज करने को तैयार नहीं है । डॉ सुनीलम ने कहा कि उन्होंने जब सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश की जानकारी दी इसके बावजूद भी एएसआई ने कहा कि वह थाना प्रभारी से बात करने के बाद ही कोई कार्यवाही करेंगे। थाना प्रभारी से बात करने पर उन्होंने भी एफआईआर दर्ज करने से इनकार किया तथा व्हाट्सएप नंबर मांगने पर भी नंबर देने से इनकार किया तथा 10 मिनट का समय मांगा । 10 मिनट बाद बताया कि एसडीओपी के निर्देश है कि लिखित शिकायत ले ली जाए ।

डॉ सुनीलम ने कहा कि थाने में शिकायतकर्ता की एफआईआर दर्ज किया जाना आवश्यक है तथा एफआईआर दर्ज होने के 7 दिन के भीतर इसकी जांच कर यदि तथ्य नहीं पाए जाते हैं तो 1 सप्ताह के भीतर खात्मा दर्ज करने तथा एफआईआर दर्ज करने वाले व्यक्ति को खात्मा क्यों दर्ज किया गया यह लिखकर सूचित करने का प्रावधान है।

डॉ सुनीलम ने बताया कि जब 20 जून को परमंडल गये थे तब उन्हें किसानों ने बायोब्लिस कंपनी के बीज के अंकुरण नहीं होने की शिकायत की थी। बीज का अंकुरण नहीं होने की सूचना उन्होंने स्वयं कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर,एसडीएम एवं जिलाधीश से मिलकर दी थी । कृषि विभाग द्वारा जांच करने हेतु टीम भी भेजी गई थी लेकिन उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई ।

डॉ सुनीलम ने मुलताई विधायक, पूर्व मंत्री सुखदेव पांसे ,बैतूल सांसद दुर्गादास उईके , कृषि मंत्री कमल पटेल ,पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ एवं वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखकर बायोब्लिस्स कंपनी के खिलाफ किसानों से धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराने, किसानों को प्रति हेक्टेयर उत्पादन के मुताबिक मुआवजा दिलाने की मांग की है ।

डॉ सुनीलम ने उक्त नेताओं से पूछा है कि वह यह बतलाए कि वे किसानों के साथ खड़े हैं या कंपनी के साथ ? डॉ सुनीलम ने कहा कि अभी तक सभी कंपनी के साथ और किसानों के खिलाफ नजर आ रहे हैं। डॉ सुनीलम ने बायोब्लिस्स कंपनी के मालिकों से किसानों से माफी मांग कर उन्हें हरजाना देने की अपील की है।

डॉ सुनीलम ने कहा कि उन्होंने कांग्रेस और भाजपा सरकारों के कार्यकाल में बीज अंकुरित ना होने की स्थिति में कंपनी पर मुकदमा दर्ज करने तथा किसानों को हर्जाना देने की मांग करते हुए दोनों पार्टियों के विधायकों को देखा है। उन्होंने टिप्पणी की है कि लगता है अब पार्टियों पर कंपनियां हावी हो गई है।

( कार्यालय प्रभारी, किसंस)