ALL लेख आंदोलन रिपोर्ट विज्ञप्ति कविता/गीत संपादकीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
रतिया में बिजली की तारों से जली गेहूं की फसल, मुआवजे की मांग
April 21, 2020 • Delhi • आंदोलन

रतिया में बिजली की तारों से जली गेहूं की फसल, मुआवजे की मांग

सुखविंदर रतिया

हरियाणा के फतेहाबाद जिले के गांव हुकमा वाली व रतिया में किसानों की पकी गेहूं की फसल जल कर रख हो गई है। कारण साफ है इन किसानों के खेतों के ऊपर से हाई पावर बिजली के तार गए हुए हैं। उसके चलते आए दिन अचानक फसल जलने की खबरें आती रहती हैं। अभी किसान प्रेम सिंह सपुत्र अर्जन सिंह की दो एकड़ गेहूं कि फसल भी ऊपर से गए बिजली के तारों के आपस में टकराने की वजह से जल कर राख हो गई है। अमरीक सिंह सपुत्र नक्षत्र सिंह का तीन एकड़ गेहूं का भूसा तथा इसी प्रकार रतिया के किसान मखन सिंह की भी साढ़े पांच एकड़ फसल जल कर राख हो गई है। अखिल भारतीय किसान महासभा ने स्थानीय उपायुक्त को सौंपे ज्ञापन के माध्यम से किसानों को तत्काल मुआवजा देने की मांग की है।

अखिल भारतीय किसान महासभा के जिलाध्यक्ष कामरेड सुखविंदर सिंह रतिया ने कहा कि इस घटना के कारण प्रभावित किसान भुखमरी के कगार पर पहुंच गए हैं। कोरोना जैसी महामारी और सम्पूर्ण भारत में लॉक डाउन की वजह से किसानों की दुर्दशा जग जाहिर है। किसान इस दुख की घड़ी में सरकार द्वारा घोषित लॉक डाउन का पूरा पालन कर रहे हैं। कामरेड सुखविंदर ने मांग की कि सरकार को भी चाहिए बिना विलम्ब किए पीड़ित किसानों के नुकसान का आंकलन करके मुआवजे का तुरंत भुगतान किया जाय। ताकि किसान अगली फसल की बिजाई कर सकें। सभी पीड़ित किसानों को इस लॉक डाउन के समय सरकार द्वारा घोषित राहत नगद या बीज, खाद, डीज़ल आदि तुरंत सभी किसानों को पहुचाने का कार्य करना चाहिए। जिससे भुखमरी के कारण किसान गलत कदम उठाने से बचे रहेंगे।